Saturday, February 13, 2010

रहिमन चुप बैठिये, देख दिनन के फेर !

www.blogvani.com
शाशिभूषणतामड़े उवाच;


दोस्तों,
कभी कभी हम चाहकर भी किसी बाबत ज्यादा कुछ नहीं कर पाते, क्यों की जुदा वजहों से हालात हमारे काबू से बाहर होचुके होते है  और हम कंही और मशगुल हो जाते है जब की पहला मसला कुछ और ही किस्म की शक्ल सूरत अख्तियार कर चुका होता है तब जब की वापिस  घूम कर उसपे हम पहुँचते है / एसा ही कुछ मेरे साथ तब पेश आया जब मैंने शिव सेना के बाबत 22 जून 2009 को इसी ब्लॉग पर आप से वादा किया था की मै जल्दी ही शिव सेना के बाबत भविष्यवाणी लिखूंगा , लेकिन उसके बाद मै कुछ इस कदर मसरूफ रहा की वादे की पूरी तरह से हवा निकल गयी / खैर , फिर भी यदि आप बे-ख्याल ना हुए हो तो मैंने शिव सेना के बाबत लिखा था की ''आगे शिव सेना के लिए समय ठीक नहीं और जल्दी ही कुछ ना किया तो खड़े होने के लिए जगह नहीं मिलेगी , शिव सेना का अवरोहण काल शुरू हो चुका है क्यों की इसका अग्नि परीक्षा का समय शुरू हो चुका है'' / इस लेख का शीर्षक यूं है  '' -कांग्रेस के सितारे बुलंदी पर है , खुदा पूरी तरह से मेहरबान है ''
आयन्दा जल्दी ही आपके लिए मै शिव सेना पर एक ताजा तरीन लेख पेश कर रहा हूँ जो शिव सेना के धमाके से पटाखे तक की एक मुस्त जानकारियों से लबा-लब भरा होगा / आयन्दा तक बाला साहेब ठाकरे के बनाए पुराने कार्टून का मजा लीजिये / वैसे शायद आपको मालूम हो तौभी बतलाना बेहतर होगा की वो एक दौर था जब बाला साहेब ने ''मार्मिक'' नामक पत्रिका में बतौर कार्टूनिस्ट अपना सारे जन्हा से उन्च्चा सफ़र आरम्भ किया था जो की जीतनी आपके लिए उतनी ही मेरे लिए हैरत और मजे की बात है /

2 comments:

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह said...

sahi kaha apne bandhu,shivsena ke bhavishya par likh kar aapne ek jaroori kaam ki shuruaat kar di hai,badhai evam shubh kamnaye.
pl mere baare mey kab batayenge?
saader
bhoopendra

S B Tamare said...

`